gyaniansinfo@gmail.com
Follow on

On-Page SEO Kya Hai : On-Page SEO Kaise Kare?

On-Page SEO Kya Hai – On Page SEO Kaise KareHello Gyanians, इस Post में हम सीखेंगे की On-Page SEO Kya Hai : On-Page SEO Kaise Kare? जैसा की आप जानते है की एक Website बहुत सारे Web Pages को मिलाकर कर बनती है या हम कहें बहुत सारे Web Pages को आपस में Interlink करके website बनाई जाती है और हम On-Page SEO में Website के Web Pages को ही Focus करते है जिससे की Website का प्रत्येक Web Page Search Engine में High Ranking पर आ जाये.

हम On-Page SEO में हम सबसे पहले ये ध्यान रखते है की Web Page पर Good Content हो और उस Content में right place पर right keywords use करना, Web Pages का Content से Related Name रखना, Web Pages को सही Title देना, Web Pages की Open होने Speed को Increase करना, Web Pages को User friendly और Responsive Layout में बनाना.

 

 

इसके अलावा Meta tag Optimize करना, Images को सही Title और alt tag देना, Internal Link Create करना, Post Heading को सही Structure में रखना, Post Length सही रखना, Web Pages का सही Sitemap बनाना, robots.txt file बनाना इत्यादि. आइये On Page SEO Kya Hai – On Page SEO Kaise Kare ये बिस्तार से जानते है.

 

On-Page SEO: Good and High Quality Original Content

Best On-Page SEO Tips In Hindi 2017

किसी भी Web Page पर मोजूद Content उस Web Page की Soul (आत्मा) माना जाता है अगर किसी Web Page पर Content अच्छा नही है तो कोई भी User उस Web Page को Open करते ही Close कर देगा जिससे उस Web Page का Bounce Rate Increase हो जायेगा और वह Web Page Search Engine के Search Result में कभी नही आएगा.

Good Content से मलतब है की वो Original हो क्यूंकि अगर उससे मिलता जुलता Content User ने पहले कही ओर पढ़ा होगा तो भी वो आपके Website को Access को बंद कर देगा. हर Post में कम से कम 500 – 600 words होने चाइये.   Content Unique होना चाइये क्यूंकि User Same Topic पर लिखे Content को अलग-अलग Blog पर पढ़ना पसंद नही करता. Users को New Content चाइये होता है जो पहले से कहीं और मोजूद ना हो.

High Quality:- Content की Quality अच्छी होनी चाइये. उसमे भाषा के typical Words का उपयोग नही होना चाइये. Content Confusing ना हो.

Content Heading:- Content में कोई भी Paragraph बिना Heading के ना हो, Paragraph के Start होने से पहले उस Paragraph की एक स्पस्ट Heading होनी चाइये जिससे Users को उस Paragraph का संक्षिप्त (Short) में विवरण (Description) मिल जाएँ.  Content Heading के लिए हमेशा Header tags (H1 – H6) का use ही करना चाइये जैसे H1 tag को Post के title के लिए. इस बात का हमेशा top-down hierarchy में ही करना चाइये.

 

On-Page SEO: Keywords Research and Use

On-Page SEO techniques beginners ke liye

जब भी कोई User Search Engine पर कोई Information Search करता है तो वह Search Bar में कुछ Words type करता है जिन्हें हम Keywords कहते है. Search Engine उन्ही Keywords के base पर User को Search Result show करता है इसलिए अगर आप चाहते है की आपके Web Page को भी Search Engine अपने Search Result में दिखाएँ तो ये सबसे जरूरी है की आपके Web Page Page में सही जगहों पर सही Keywords का use किया गया हो.

जब भी कोई Post लिखें तो सबसे पहले उसके लिए keywords research करें और फिर उन keywords को Post के Title, URL, First Paragraph, Heading, Sub Heading, Image Alt Tag इत्यादि में जरुरु use करें. Internet पर keywords research के लिए बहुत सारे free और paid tools मोजूद है जिनका आप use कर सकते हो.

 

On-Page SEO: SEO Friendly URL Structure

जब हम अपने Blog पर कोई New Web Page Create करते है तो उसको एक Name दिया जाता है और वह Web Page Website में उसी Name के साथ Access किया जाता है

जैसे:- http://www.gyanians.com/waht-is-seo.html

इसमें Gyanians.com Website का name है और what-is-seo.html Web Page का name और यहीं दोनों मिलकर बनाते है URL अर्थात किसी Web Page का Address. अब बात करते है URL Structure की URL Structure से मतलब है की आपके Web Page का URL बहुत Short (Maximum 5-6 Words) और सभी Words hyphen (-) से Separate होने चाइये ना की Space या Underscore से, अगर Sub-Directories हैं तो उनका name 1-2 Words में होना चाइये और Web Page का Name Web Page पर मोजूद Post से Related होने चाइये जिससे URL Search Engine Friendly बन सकें.

 

On-Page SEO: Title Tag Optimization

On Page SEO Techniques in Hindi - on page seo strategies

किसी भी Website को Search Engine में Top Rank पर लाने के लिए Title Tag का बहुत Important Role होता है. आपकी Website के Web Pages का Title Tag जितना अच्छा Optimize होगा उतना ज्यादा ही आपकी Website पर Traffic होगा.

Title की शुरुआत हमेशा अपनी post के primary keyword के साथ ही करें लेकिन कभी कभी ये शायद possible नही हो पाता की title की शुरुआत अपने primary keyword से कर सकें तो आप उसे title के बीच में use कर सकते है लेकिन title के अंत में use करने का ज्यादा फायदा नही होगा.

 

Excellent Ex.On-Page SEO kya hai?

Good Ex. – Janiye On-Page SEO kaise Karte hai?

Poor Ex. – Kaise karte hai On-Page SEO?

 

Title tag देते वक़्त आपको कुछ जरूरी बातो का ध्यान रखना होता है:-

  • हर Web Page का Title unique होना चाइये.
  • Title 40 characters से छोटा और 60 characters (9 Words) से बढ़ा नही होना चाइये.
  • कोशिश करिये की Title आपके Web Page के Primary Keyword से ही Start हो.
  • Title में किसी भी Keyword को Repeat ना करें.
  • अपनी Company का name Title में use ना करें अगर करना ही चाहते हो तो name को title में आखिर में add करें.
  • इस बात को जरुर ध्यान रखें की title tag head tag के section में सबसे पहला element होना चाइये.

 

On-Page SEO: User Friendly and Responsive Website

On page or Off page SEO kya hota hai

किसी भी Website का user friendly होने से मतलब है की उस website का design and layout ऐसा हो कोई भी user उस website को आसानी से access कर सकें और website पर मोजूद content को सरलता से पढ़ सकें इसलिए हमे कुछ Basic चीजो पर ध्यान देना होता है:-

Responsive Layout: आपकी website device responsive होना बहुत जरूरी जिससे जब user आपकी website को computer, tablet या mobile पर खोले तो उसे website को access करने में problem ना आयें और एक बेहतर अनुभव मिल सकें. Responsive layout website को Search Engine भी good ranking देते है.

Website Open Speed: Website को open होने में ज्यादा time नही लगना चाइये अगर ऐसा हुआ तो user आपकी website को दुबारा open ही नही करेगा. किसी website पर मोजूद बड़ी बड़ी Graphic Pictures, JavaScript code और Flash animation उस website की open speed को बहुत slow कर देते है इसलिए graphics pictures को compress करके लगायें. JavaScript code को external file से add करें और बेवजह Flash animation को उपयोग ना करें.

 

On-Page SEO: Meta Description Tags

On Page SEO Kaise Kare Full Guide Hindi Me

Meta Description tag में आप अपने Web Page का सारांश (summary) देते है अर्थात् आपके Web Page पर क्या Content मोजूद है. कुछ Search Engine Meta Description को अपने Search Engine Results Pages (SERPs) में  Snippets के रूप में दिखाता है. Meta tags भी Title tag की तरह Head tag के Section में आते है.

 

जब हम Meta Description tag Web Page में add करते है वक्त कुछ बातो का ध्यान रखना होता है जैसे की:-

  • Meta Description में Interactive content और Keywords का use करें.
  • Meta Description 150-160 characters से ज्यादा का नहीं होना चाइये.
  • Website के हर अलग Page पर Unique Meta Description होना चाइये.

 

On-Page SEO: Image Optimization

बहुत से Bloggers ये नही जानते है की Images भी आपकी website पर traffic ला सकती है क्या आप भी सोच रहे हो कैसे? जब भी कोई user Search Engine पर कोई keywords type करता है तो Search Engine उन keywords से related web pages के साथ pictures भी search करता है और अगर आप चाहते है की आपकी website पर लगी images को भी Search Engine अपने Search Results में दिखाये तो उसके लिए जरूरी है Image Optimization करने की.

Image Optimization में Bloggers Alt tag (Alternative Text) का use करते है. Alt tag को Img tag में attributes की तरह use करते है. Alt tag Search Engine को image के बारे में बताता है की image किस चीज की या किसकी है और इसी Information का use करके ही आपकी Images को वो वह अपने Search Result में दिखाता है.

 

On-Page SEO: Internal Links

Internal Links उन Links को बोला जाता है जो आपकी ही website के किसी एक page को दुसरे pages से connect करते है जिससे users आपकी website को navigate करते है.  SEO के नजरिये से देखा जाए तो Internal Links Bounce Rates को कम करते है, Link Juice (Ranking Power) को बढ़ाता है, Users और Search Engine को Current Page Post से Related Relevant Data देते है.

 

On-Page SEO: Sitemap

जैसे आपको किसी city में घुमने के लिए उसके map की जरूरत होती है जिससे आप उस city में मोजूद सभी places का रास्ता अच्छे से जान सकें ठीक इसी तरह Search Engine को भी आपकी website का map चाइये होता है जिससे वो आपके website में मोजूद सभी web pages तक पहुँच सकें इसमें search engine की help करती है sitemap.xml file.

Sitemap एक XML file होती है जिसके अंदर आपके website में मोजूद सभी web pages के link (URL or Address) होते है और इस file को हम अलग-अलग search engine में submit करते है और इसी file को use करके सभी search engine आपकी website को बेहतर तरीके से crawl कर पाते है और इससे आपकी website के  प्रत्येक page की search engine में ranking अच्छी हो जाती है.

 

Hello Gyanians, आशा करता हूँ की आपको ये “On-Page SEO Kya Hai : On-Page SEO Kaise Kare?” post पसंद आई होगी. अगर आपको इस post से related कोई सवाल या सुझाव है तो नीचे comment करें और इस post को अपने दोस्तों के साथ जरुर share करें.

gyanians_author

About the Author

Hello gyanians, मेरा नाम Neeraj Parmar (Neel) है और में India की Taj City (Agra) में रहता हूँ. मैंने computer science से engineering की है. By Profession मैं computer science teacher और web developer हूँ और इसके साथ-साथ ही मैं part time blogging भी करता हूँ.

Read More >>

6 Comments

6 responses to “On-Page SEO Kya Hai : On-Page SEO Kaise Kare?”

  1. Vikram Choudhary says:

    Nice post

  2. awesome and amazing sir thank you

  3. Divya says:

    Bahut informative post hai sir g . hamesha apke articles ka intizar rehta hai.maine bahut kuch naya sikha hai…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Get In Touch
gyaniansinfo@gmail.com
Copyright 2017 By Gyanians (All Right Reserved) | Design & Developed By WebAtoZ.in