gyaniansinfo@gmail.com
Follow on

Data Recovery Software Kaise Work Karte Hai

Data Recovery Software Kaise Work Karte Hai - gyaniansHello Gyanians, आज हम सीखेंगे की Data Recovery Software Kaise Work Karte Hai. आज के technology युग में Data (Images, Software, Videos, Documents etc) बहुत जरूरी चीज है. एक सामान्य computer user की hard drive में भी 100-200 gigabytes (GB) data मिल जाता है.

कभी-कभी Hard Drive Failure की वजह से, Data Corruption की वजह से या हमारी ही गलती से Data delete हो जाता है यानी हमारा जरूरी data हमारे computer से lost हो जाता है और ऐसी situation में हम data recovery के बारे में सोचते है. लेकिन क्या आप जानते है की Data Recovery क्या होती है और Data Recovery Software कैसे काम करते है? अगर आपका जबाब ना है तो ये पोस्ट पढ़ते रहिये ….

 

Data Management in Computer

Data Recovery Software Kaise Work Karte Hai ये जानने से पहले आपको ये पता होना चाइये की आपके computer में Data (Files) को कैसे store क्या जाता है. बैसे तो computer का Data Management समझना बहुत ज्यादा complicated है और उसको समझने के लिए technical knowledge भी होना जरूरी है इसलिए मैं यहाँ उसे आसान शब्दों में समझाने की कोशिश करूंगा.

जब हम कोई data अपने computer में store करते है तो computer का operating system उस data से related information को अपनी एक index table में store करता है. उस table में data का address (path), उसका status इत्यादि information store होती है और उसी index table की help से operating system ये बताता है की आपकी hard drive में कौन-कौन सी files है और वो कितना space use कर रहीं है.

What is data recovery how it works and what are chances for recovery

आपको ऊपर जो table नजर आ रही है उसे मैंने सिर्फ आपको समझाने की वजह से आसान बनाया है. आपको उस table के first column में memory address नजर आ रहें है उसके बाद second column में आपको ये नजर आ रहा है की उस address पर क्या data store है यानी उस data का path (name with address) और last में आपको उस data का status नजर आ रहा है.

जब आप किसी data को memory में store करते है तो उसका status 1 होता है लेकिन जब आप उस data को delete कर देते हो तो उसका status 0 हो जाता है और जिस data का status 0 है वो आपको आपकी storage device में नजर नही आएगा और ना ही वो उस drive का space use करेगा. यानी आपका data delete हो जाने के बाद भी computer में ही मोजूद है बस उसका status 0 हो गया है जिसकी वजह से आपको वो नजर नही आ रहा.

 

 

Data Recovery Software Kaise Work Karte Hai

जब हम किसी Data Recovery software को use करते है तो हम उसे बताते है की हम किस hard drive (location) से deleted files को recover करना चाहते है उसके बाद recovery software operating system की index table में उस location पर मोजूद सभी data के status को 0 से बदल कर 1 कर देता है और इस तरह आपका data आपको बापस नजर आने लगता है.

 

Data Recovery Software से data को कितने दिन में recover कर सकते है?

ये question बहुत से readers पूछते है, Data recovery का कोई predefined time नही होता है आपने data को delete होने के 5 hours बाद या 5 years बाद भी recover कर सकते हो लेकिन कभी कभी आपका data recover नही होता है ऐसा क्यू ये मैं आपको बताता हूँ.

मैंने आपको ऊपर एक index table दिखाई है. जिसमे आपको ये दिखाया है की हम जो data delete कर देते है उसका status 1 से change होकर 0 हो जाता है. अब मान कर चलिए आपका कोई data आपकी hard drive से delete हो गया. अब उसके बाद जब आप उसी hard drive में कोई दूसरा data store (save) करेंगे तो आपका operating system उस new data की entry भी index table में add करेगा.

Operating system new data की entry या तो blank row (खाली जगह) कर देता है या उस row में कर देगा जहाँ पर किसी data का status 0 होता है यानी वो आपके deleted data की entry को overwritten कर देगा और फिर शायद आपका data कभी recover ना हो पाए.

 

Extra Tip – जब भी आपका कोई data delete हो जाए तो उसके बाद उस drive में से data recover करने से पहले कोई और data save ना करिये  क्योंकि ऐसा करने से हो सकता है की आपके deleted data का record computer की index table से overwritten हो जाए और फिर वो data recover ना हो.

 

Hello Gyanians, आशा करता हूँ की आपको ये “Data Recovery Software Kaise Work Karte Hai” post पसंद आई होगी. अगर आपको इस post से related कोई सवाल या सुझाव है तो नीचे comment करें और इस post को अपने दोस्तों के साथ जरुर share करें.

About the Author

Hello gyanians, मेरा नाम Neeraj Parmar (Neel) है और में India की Taj City (Agra) में रहता हूँ. मैंने computer science से engineering की है. By Profession मैं computer science teacher और web developer हूँ और इसके साथ-साथ ही मैं part time blogging भी करता हूँ. Read More >>

0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Get In Touch
gyaniansinfo@gmail.com
Copyright 2017 By Gyanians (All Right Reserved) | Design & Developed By WebAtoZ.in