EDGE क्या है, EDGE के क्या Features हैं, History, Advancement

EDGE Kya Hai, EDGE Ke Kya Features Hain, Advancement, History

आज हम आपको इस Article की मदद से बताएँगे की EDGE Kya Hai और EDGE Ke Kya Features Hain की पूरी जानकारी.

साथ ही हम आपको EDGE से जुड़े और भी सवालों के जवाब देंगे. जैसे की: EDGE Advancemnet क्या है, EDGE की History, EDGE का Full Form इत्यादि की पूरी जानकारी विस्तार में जानेंगे.

तो चलिए शुरू करते हैं Article EDGE क्या है पढ़ने से…..

EDGE Kya Hai

EDGE का पूरा नाम Enhanced Data Rates for GSM Evolution होता है. इसको Enhanced GPRS, EGPRS या IT सिंगल Carrier (IMT – SC) के नाम से भी जाना जाता है. यह एक प्रकार की Wireless Technology है, जिसकी मदद से डाटा को Transfer किया जाता है.

इसको GSM Channels एवं GSM Network में 384 Kbps तक की Speed से डाटा को Transfer किया जा सकता है. EDGE GSM Technology पर आधारित है. GSM की तरह EDGE भी TDMA Frame Structure का प्रयोग करता है. इसमें किसी भी प्रकार का Software या Hardware बदलने की जरुरत नहीं पड़ती है.

EDGE Transceiver को Bare Station में लगाया जाता है, जिससे इसको Coverage Area मिलती है. इसके साथ ही इसमें 8PSK  का Modules का इस्तेमाल किया जाता है, क्योंकि 8kbps का Module High Speed Transfer Rate Provide कराता है.

इसलिए इस Speed से Mobile Phones एवं Computer में Multimedia और Broadband Services का इस्तेमाल किया जा सकता है. इसे सबसे पहले United State of America में 2001 को शुरू किया गया था.

EDGE पहले इस्तेमाल किये जाने वाले GPRS Network से तीन गुना ज्यादा तेज़ है. इसे Pre 3G के नाम से भी जाना जाता है, क्योकि ये 3G की कमी को पूरा करता है.

ये 8psk Module को इस्तेमाल करके ज्यादा तेज़ गति से संचरण दर को प्राप्त करता है. इस Modulation Format में GMSK को बदल कर 8PSK कर दिया जाता है. इससे यहाँ फायदा होता है की यहाँ 3bit per Symbol एवं यह अधिकतम संचरण दर को बड़ा देता है. लेकिन इसके लिए Station की संख्या बढ़ानी पड़ती है.

EDGE Ke Kya Features Hain

EDGE के Features कुछ इस प्रकार है:

  • EDGE डाटा को बहुत ही मजबूत Coding के साथ भेजता है जिससे Packet को Retransmit किया जा सकता है.
  • इससे पुनः विभाजन मुमकिन को जाता है.
  • EDGE Data Packets को 248 Kbps की Speed से भेज सकता है, वही GSM में केवल 128kbps तक की ही Speed मुमकिन है.
  • कोई error आने पर EDGE Data Packets को Retransmit करने के लिए कम कर देता है.
  • EDGE Wireless Terminals के द्वारा Multimedia एवं Web Browsing को मुमकिन बना देता है.
  • EDGE Operator से ग्राहकों तक Data पहुंचाने की speed को तीन गुना बड़ा देता है. इससे इंटरनेट एवं Voice Calling बहुत अच्छी हो जाती है.
  • यह 3GPP द्वारा मानकीकृत किया गया है.

EDGE Advancement Kya Hai

EDGE GSM का एक Upgradeed Model है. यह एक High Speed 3G Technology जो GSM के लिए बनाई थी, इसे का इस्तेमाल करके EDGE को बनाया है.

EDGE Network 384kbps तक की Speed से Mobile Phones में Audio, Video एवं Web Surfing के लिए बनाया गया था. EDGE GSM की मुकाबले 3x गुना तेज़ है लेकिन ये अब भी हाई Speed Ethernet के मुकाबले काफी कम है.

EDGE Ke Upgradation Kya Hai
  1. बीटीएस – एचडब्ल्यू आपूर्ति EDGE के काबिल होना चाहिए.
  2. BSC – EDGE टाइमिंग की Definition BSC में की जानी चाहिए.
  3. जीपीआरएस सपोर्ट नोड्स (GSN) – किनारे के लिए Definition को जीएसएन में परिभाषित करना जरुरी है.
  4. डाटाबेस (एचएलआर, वीएलआर, आदि) – किसी परिभाषा की आवश्यकता नहीं होती है.
EDGE Ke Advantages

EDGE के बहुत सारे लाभ है:

  1. शार्ट टर्म Benefits जैसे छमता एवं Performance बढ़ाना.
  2. आसानी से लगाना – इसमें किसी Software या Hardware को बदलने की जरुरत नहीं पड़ती जिससे इसे लगाने में ज्यादा मेहनत नहीं लगती.
  3. बहुत ही कम लागत.
  4. Data Transfer Rate की गति में बढ़त होती है.
  5. नई सेवाओं को संभव बनाना. जैसे मोबाइल पर Video देखना एवं Netsurfing करना.
  6. WCDMA के साथ Harmonize होना जिससे लम्बे समय तक फायदा हो.
  7. बहुत ही तेज़ Upload और Download Speed.
  8. Video Conference, Remote Presentation जैसे चीज़ों को मुमकिन बनाना.

EDGE Ki History

EDGE को पहली बार European Telecommunications Standards Institute (ETSI) में प्रस्तावित किया गया था. Europe में 1997 में इसकी शुरुआत में, इसको GSM के विकास के लिए किया गया था.

हांलाकि EDGE GSM के Carrier Bandwidth एवं टाइम Slot Structure का इस्तेमाल करता है, लेकिन इसका ये मतलब नहीं है की EDGE केवल GSM सेलुलर Systems में ही इस्तेमाल किया जा सकता है.

बल्कि इसके High Speed के कारन इसे Air Interface की लिए एवं High Bit Rate देने के लिए भी इस्तेमाल किया जाने लगा. इससे 3rd Gen की क्षमताओं की ओर मौजूदा सेलुलर सिस्टम में विकास होना शुरू हो गया.

बाद में कई अलग अलग प्रस्तावों का मूल्यांकन करने के बाद EDGE को जनवरी 1998 में UWCC द्वारा अपनाया गया था. तब से EDGE का Development ETSI एवं UWCC ने साथ साथ किया जिससे GSM और TDMA/136 दोनों के साथ बहुत ज्यादा अच्छा तालमेल देखने को मिलता है.

EDGE के मानकीकरण लिए Roadmap में दो Phases में की गई. पहले Phase में ज़ोर दिया गया है Enhanced GSM (EGSM) और Enhanced Circuit-Switched Data (ECSD).

EDGE उसी TDMA (Time Division Multiple Access) Frame Structure, Logic Channel और 200khz का उपयोग करता है, जो मौजूदा Cell Plans को बने रहने की अनुमति देता है.

इसकी हाई Speed Transfer रेट अधिक Diverse और Multimedia Content प्रदान करती है और GSM ग्राहकों के लिए High Quality Calling की सुविधा उपलब्ध कराती है.

EDGE Ka Full Form

EDGE का Full Form होता है Enhanced Data Rates for GSM Evolution.

आशा करते हैं आपको हमारी पोस्ट EDGE Kya Hai और EDGE Ke Features Kya Hai, पसंद आई होगी.

अगर इसके बाद भी आपको कोई सुझाव या समस्या है तो आप निचे दिए Comment Box का पूरा लुफ्त उठा हमसे सवाल पूछ सकते हैं.

Questions & Answer:
Tally Kya Hai

Tally क्या है- Tally Software Download कैसे करे,टैली को Use कैसे करे

Useful SoftwareKaiseKya Hai
POP App Kya Hai और POP App Kaise Use kare

POP App क्या है – कैसे Use करें पूरी जानकारी | POP App Download

Apps
Do/no follow backlink kya hai - do/no follow me antar

Do Follow/ No Follow Link क्या है – Link Juice के फायदे

WordPressSEO
Author :
सु-सुवागातम Gyanians इस वेबसाइट का मकसद है लोगो को हिंदी भाषा में ज्ञान प्रदान करना उनके द्वारा पूछे गए प्रिश्नों के उत्तर देना और यह कार्य करने के लिए हम तात्पर्य है. आप Gyanians को लोगों के साथ शेयर करके हमारी सहायता कर सकते है .
Questions Answered: (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *